Top Listings

Most Powerful countries 2021

1. अमरीका

      दुनिया भर में कुल 193 ऐसे देश हैं, जो सयुंक्त राष्ट्र के हिसाब से देश माने जाते हैं। Global Fire Index 2021 के हिसाब से इनमें से भी कुल 138 ही ऐसे हैं, जिनके पास किसी भी प्रकार की सैन्य शक्ति है। इस लिस्ट में PwrIndx rating 0.0000 सबसे अच्छी आंकी गई है और इसी के हिसाब से अंक दिए गए हैं।

      इस लिस्ट में जो नाम सबसे ऊपर आता है वो किसी के लिए भी चौंकाने वाला नहीं है। अमरीका की सैन्य ताकत किसी भी देश के मुकाबले आज भी कई गुना बड़ी है। कम से कम अगले पाँच से लेकर छ: सालों तक तो कोई भी देश अमरीकी सैन्य ताकत से पार पाने में सक्षम नहीं होने वाला है। इनके पास 904 हमलावर हेलीकॉप्टर हैं, 11 एयरक्राफ्ट कैरियर हैं और 68 से अधिक सबमरीन हैं। इतने एयरपक्राफ्ट कैरियरों की संख्या कुल रूस, चीन, भारत, दक्षिण कोरियर और फ्रांस सभी के मिला कर भी नहीं हैं। इसके अलावा भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, कई यूरोपीय देशों के साथ इनकी सैन्य संधियां या सैन्य ठिकाने हैं। अमरीका की कुल PwrIndx rating 0.0721 दी गई है।

2. रूस

      रूस भी पिछले कई सालों से अमरीका के बाद दूसरे पायदान पर आता है। इसका कारण है इनकी सैन्य हथियार बनाने में तकनीकी ताकत। अब भी रूस का S-400 दुनिया का सबसे उन्नत वायु रक्षा मिसाईल प्रणाली (Air defence system) है। इसके अलावा रूस से हाईपर सॉनिक मिसाईल बनाने की भी बहुत करीब पहुँच गया है, जिसे अमरीका भी अभी तक नहीं बना पाया है। रूस के पास इस समय सबसे अधिक परमाणु बमों की संख्या है, जोकि करीब 6800 है। इसीलिए रूस की कुल PwrIndx rating 0.0796 है।

3. चीन

      चीन की सैन्य शक्ति भी पिछले कुछ वर्षों से तीसरे स्थान पर रही है। इसका बड़ा कारण इनकी चीनी सेना PLA का संख्या बल भी है, जिसमें 2 लाख से अधिक सक्रिय सैनिक हैं, जो विश्व में सबसे अधिक है। चीन से पिछले कई वर्षों में लगातार अपने हथियारों में बहुत तेजी से बढ़ोतरी की है और कई हथियार अब वे अपने देश में ही बनाने लग गए हैं। चीन अपने देश में निर्मित हथियारों को पाकिस्तान को भी बेचता है, जिसमें JF 17 प्रमुख है। हालांकि चीन पर रूस, अमरीका आदि देशों की तकनीक चुरा कर अपने देश में बनाने के कई आरोप भी लग चुके हैं, किंतु चीन ने ऐसे किसी भी आरोप से हमेशा इंकार ही किया है। चीन की कुल PwrIndx rating 0.0858 दी गई है।

4. भारत

      भारत भी कई सालों से इस लिस्ट में चौथे स्थान पर ही है। 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद से भारत की सैन्य ताकत को लगातार बढ़ाने की ओर खास ध्यान दिया गया है। इसमें भारत ने रूस के S-400 भी खरीदने का काम भी किया है, जोकि इस वर्ष के अंत तक हमें मिल जाने की आशा है। इसके अलावा अमरीका से चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टर, फ्रांस से राफेल, रूस से लड़ाकू मिग विमान, स्वयं निर्मित आकाश मिसाईल जैसे कई हथियार सरकार ने खरीदे हैं। साथ ही अब भारत उन चुनिंदा देशों की लिस्ट में भी शामिल हो गया है, जो मिसाईलों या उनकी तकनीकों को दूसरे देशों को बेच भी सकते हैं। किसी भी सैटालाईट को मिसाईल से मार गिराने की क्षमता भी अब भारत ने पास आ गई है। DRDO के साथ – साथ  ISRO की भी कई सेवाएं भारत की सैन्य ताकत को बढ़ाने में सक्षम हो पाई हैं।

      भारतीय वायुसेना के पास कुल  542 लड़ाकू विमान, 37 अटैक हेलीकॉप्टर व 775 अन्य हेलीकॉप्टर हैं। जल सेना के पास 1 एयरक्राफ्ट कैरियर है, जिसका नाम आ.एन.एस. विक्रमादित्य (INS Vikramaditya) और 17 सबमरीन भी हैं। इस लिस्ट में भारत की कुल PwrIndx rating 0.1214 है।

5. जापान

      जापान ने इस लिस्ट में पाँचवा स्थान प्राप्त किया है। मौजूदा समय में जापान के पास 256 लड़ाकू विमान हैं और 119 हमलावर हेलीकॉप्टर हैं। इनकी जल सेना के पास 2 एयरक्राफ्ट कैरियर भी है और साथ ही 20 सबमरीन, 37 डिस्ट्रॉयर तथा 2 हेलीकॉप्टर कैरियर भी मौजूद हैं। इनका अमरीका के साथ रक्षा समझौता भी है, जिसमें अपनी सुरक्षा के लिए जापान को कुछ बिलियन डॉलर हर साल देने होते हैं। जापान की कुल PwrIndx rating 0.1435 आंकी गई है।

6. दक्षिण कोरिया

      इस लिस्ट में शामिल होने वाला एक और एशियाई देश है दक्षिण कोरिया। इनका सालाना रक्षा बजट 48 बिलियन डॉलर है। इनके पास कुल 402 लड़ाकू विमान है और 734 हेलीकॉप्टर है। इसके अलावा 112 अटैक हेलीकॉप्टर भी मौजूद हैं। जल सेना के पास एयरक्राफ्ट कैरियर की संख्या शून्य है, लेकिन 1 हेलीकॉप्टर कैरियर और 11 सबमरीन अवश्य है। दक्षिण कोरिया PwrIndx rating 0.1621 आंकी गई है।

7. फ्रांस

      फ्रांस की रैंकिंग सातवीं है। इनकी उन्नत तकनीक से फ्रांस अपने अधिकतर हथियार स्वयं ही बनाता है तथा साथ ही अन्य देशों को भी निर्यात करता है। 269 लड़ाकू विमान, 69 हमलावर हेलीकॉप्टर तथा 23 टैंकर फ्लीट भी इनकी वायुसेना के पास मौजूद हैं। 1 एयरक्राफ्ट कैरियर तथा 3 हेलीकॉप्टर भी जल सेना रखती है। इस समय भारत के फ्रांस से रणनीतिक रिश्ते काफी अच्छे हैं और दोनों देश कई सैन्य समझौतें भी कर सकते हैं। PwrIndx rating 0.1691 आंकी गई है।

8. युनाईड किंगडम

      इस लिस्ट में युनाईड किंगडम ने दूसरा यूरोपीय देश है तथा इसकी रैंकिंग आठवे स्थान पर आती है। इनके पास 119 लड़ाकू विमान हैं, तथा 38 अटैक हेलीकॉप्टर हैं। जल सेना के पास 2 एयरक्राफ्ट कैरियर है, किंतु कोई भी हेलीकॉप्टर कैरियर नहीं है। साथ ये 11 सबमरीन भी लिए हुए हैं। इनकी PwrIndx rating 0.2008 है।

9.ब्राजील

      नौवें स्थान पर ब्राजील है और उपरोक्त सभी देशों की तरह इन्होंने भी पिछले साल के मुकाबले अपनी रैंकिंग को बनाए रखा है। इनके पास कुल 43 लड़ाकू विमान, और 12 अटैक हेलीकॉप्टर हैं। हालांकि इनके पास कोई एयरक्राफ्ट कैरियर नहीं है, किंतु इनकी जल सेना ने एक हेलीकॉप्टर कैरियर को अपनी जल सेना में शामिल किया है। साथ ही ये 6 सबमरीन लिए हुए भी हैं। PwrIndx rating 0.2037 आंकी गई है।

10. पाकिस्तान

      पाकिस्तान ने आखिरकार अपने देश की अर्थव्यवस्था और जनता के बद्तर हो चुके हालातों को दरकिनार कर अपनी सेना की ताकत इस साल बढ़ा ली और इस लिस्ट में टॉप 10 देशों में दसवां स्थान हासिल कर लिया है। पिछले वर्ष 2020 में पाकिस्तान की रैंकिंग 16 थी। इस साल इजराईल और तुर्की जैसे देशों को पाकिस्तान ने पीछे छोड़ा है। इनके पास 357 लड़ाकू विमान और 53 हेलीकॉप्टर हैं। हालांकि इनकी जल सेना के पास कोई भी एयरक्राफ्ट कैरियर नहीं है और न ही किसी भी प्रकार का हेलीकॉप्टर कैरियर है। इनके पास केवल 9 सबमरीन हैं। PwrIndx rating 0.2083 आंकी गई है।

Added for comparison

×

Error

Maximum of Three products are allowed for comparision